Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
12 Nov

Published from Overblog

Published by Ram Diljale  - Categories:  #prem kahani

 कार्यक्रम मेजीक मियोजीक आत्मा कथा मा मेरो प्रेम कहानी आउ दाई छ सुनु को लागि न भुल्नु होला मेरो प्रीय साथी हरु मात्र रेडियो मिथिला १००.८ मेगाहर्ज मा सुक्रबार दिन को १ बजेर १५ मिनेटमा संचालक जीयु जुगल किशोर सुन्न नभुल्नुहोला है //राम दिलजले.. //////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////// Waise to jaldi uthta nahi mai, Pr use dekhne na jane kyo uth jaata tha, Colgk baad kabhi rukta nahi mai, Fir use dekhne na jaane ruk jaata tha... Nikalti thi wo clg se to uska picha krta tha, Kahi dekh le na mujhe wo isliye chupke uski photo khinchaa krta tha, Kya wo pyar ka badal tha, Ya mai ladka thoda pagal tha, Uski har 1 frndz se mai uske baare me poocha krta tha, Kya wo b sochti hogi mujhe raato me socha krta tha, Jab ammi poochti kyo man hi man muskura raha h to baat ghumana padta tha, Or jab poochti late kyo hua clg se to baat banana padta tha... Kya mai ladka thoda pagal tha, Ya wo pyar ka पहल.................. [[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[]]]]]]]]]]]]]]]]]]]] बातें अच्छी लगे तो ही LIKE करें ।। 1- क्रोध को जीतने में मौन सबसे अधिक सहायक है। ——————- 2- मूर्ख मनुष्य क्रोध को जोर-शोर से प्रकट करता है, किंतु बुद्धिमान शांति से उसे वश में करता है। ——————- 3- क्रोध करने का मतलब है, दूसरों की गलतियों कि सजा स्वयं को देना। ——————- 4- जब क्रोध आए तो उसके परिणाम पर विचार करो ——————- 5- क्रोध से धनी व्यक्ति घृणा और निर्धन तिरस्कार का पात्र होता है। ——————- 6- क्रोध मूर्खता से प्रारम्भ और पश्चाताप पर खत्म होता है। ——————- 7- क्रोध के सिंहासनासीन होने पर बुद्धि वहां से खिसक जाती है। ——————- 8- जो मन की पीड़ा को स्पष्ट रूप में नहीं कह सकता, उसी को क्रोध अधिक आता है। ——————- 9- क्रोध मस्तिष्क के दीपक को बुझा देता है। अतः हमें सदैव शांत व स्थिरचित्त रहना चाहिए। ——————- 10- क्रोध से मूढ़ता उत्पन्न होती है, मूढ़ता से स्मृति भ्रांत हो जाती है, स्मृति भ्रांत हो जाने से बुद्धि का नाश हो जाता है और बुद्धि नष्ट होने पर प्राणी स्वयं नष्ट हो जाता है। ——————- 11- क्रोध यमराज है। ——————- 12- क्रोध एक प्रकार का क्षणिक पागलपन है। ——————- 13-क्रोध में की गयी बातें अक्सर अंत में उलटी निकलती हैं। ——————- 14- जो मनुष्य क्रोधी पर क्रोध नहीं करता और क्षमा करता है वह अपनी और क्रोध करने वाले की महासंकट से रक्षा करता है। ——————- 15- सुबह से शाम तक काम करके आदमी उतना नहीं थकता जितना क्रोध या चिन्ता से पल भर में थक जाता है। ——————- 16- क्रोध में हो तो बोलने से पहले दस तक गिनो, अगर ज़्यादा क्रोध में तो सौ तक। ••••••••••••••••••••­­ ऐसे ही अच्छे अच्छे पोस्ट पढ़ने के लिये प्लीज यह पेज लाइक करें..'''' https://www.facebook.com/pages/Ram-Diljale/566426086804888?fref=टस ज़िंदगी में बार बार सहारा नही मिलता, बार बार कोई प्यार से प्यारा नही मिलता, है जो पास उसे संभाल के रखना, खो कर वो फिर कभी दुबारा नही मिलता…...... ---------------------------------------------------------------------- Pyar Ghajal Hai GunGunane Ke Liye Pyar Nagma Hai Sunane Ke Liye Ye Vo Zajba Hai Jo Sabko Nahi Milta Kyoki Haunsla Chahiye Pyar Ko Nibhane Ke Liye......... ================================== Ek jurm hai mohabbat Jo maine kiya hai, Ek galti hai mohabbat Jo mujh se hui hai, Ek dard hai mohabbat Jo mujhe mila hai, Ek ehsaas hai mohabbat Jo maine mehsoos kiya hai, Or ek Dhokha hai mohbbat Jo Mujhe Kisi Ne Diya Hai...... ))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))((((((((((((((((((((((((( Meri yaad ayegi tumhe, jab mai dur chla jaunga, dur itna ki kabi lout kar nahi aounga........  ab tak tumhare dil me rahata tha, fir tumhari yaado me bas jaunga....  Yad ayegi tumahri baate aur mulakate, magar tumse kabi mil nahi paunga.  Tadpogi tum bhi mere bare me soch kar, magar mai fir najar nahi aunga,  tumhe jaan se jyada chata hu. Magar me saabit nahi kar paunga.......  Log kahte hai pyar amar hota hai, fir to mai khud ko hi amar kar jaunga.......  Mere pyar ko shara dena tab, jab akhiri dam par tumhe bulaunga....  meri yad aye to raat ko bahar akar dekhna, mai ek chamkta huwa tara ban jauga.....  Aanshu mat bahana mujhe yaad kar ke, warna naraz mai ho jauga,  suna hai sath janam milte hai insan ko, wada raha baki 6-janam tumare sath bitauga........  tumare sath bitauga.............................. iiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii राम दिलजले  दिल के द्रद्र कोण सुनत ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

कार्यक्रम मेजीक मियोजीक आत्मा कथा मा मेरो प्रेम कहानी आउ दाई छ सुनु को लागि न भुल्नु होला मेरो प्रीय साथी हरु मात्र रेडियो मिथिला १००.८ मेगाहर्ज मा सुक्रबार दिन को १ बजेर १५ मिनेटमा संचालक जीयु जुगल किशोर सुन्न नभुल्नुहोला है //राम दिलजले.. //////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////////// Waise to jaldi uthta nahi mai, Pr use dekhne na jane kyo uth jaata tha, Colgk baad kabhi rukta nahi mai, Fir use dekhne na jaane ruk jaata tha... Nikalti thi wo clg se to uska picha krta tha, Kahi dekh le na mujhe wo isliye chupke uski photo khinchaa krta tha, Kya wo pyar ka badal tha, Ya mai ladka thoda pagal tha, Uski har 1 frndz se mai uske baare me poocha krta tha, Kya wo b sochti hogi mujhe raato me socha krta tha, Jab ammi poochti kyo man hi man muskura raha h to baat ghumana padta tha, Or jab poochti late kyo hua clg se to baat banana padta tha... Kya mai ladka thoda pagal tha, Ya wo pyar ka पहल.................. [[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[[]]]]]]]]]]]]]]]]]]]] बातें अच्छी लगे तो ही LIKE करें ।। 1- क्रोध को जीतने में मौन सबसे अधिक सहायक है। ——————- 2- मूर्ख मनुष्य क्रोध को जोर-शोर से प्रकट करता है, किंतु बुद्धिमान शांति से उसे वश में करता है। ——————- 3- क्रोध करने का मतलब है, दूसरों की गलतियों कि सजा स्वयं को देना। ——————- 4- जब क्रोध आए तो उसके परिणाम पर विचार करो ——————- 5- क्रोध से धनी व्यक्ति घृणा और निर्धन तिरस्कार का पात्र होता है। ——————- 6- क्रोध मूर्खता से प्रारम्भ और पश्चाताप पर खत्म होता है। ——————- 7- क्रोध के सिंहासनासीन होने पर बुद्धि वहां से खिसक जाती है। ——————- 8- जो मन की पीड़ा को स्पष्ट रूप में नहीं कह सकता, उसी को क्रोध अधिक आता है। ——————- 9- क्रोध मस्तिष्क के दीपक को बुझा देता है। अतः हमें सदैव शांत व स्थिरचित्त रहना चाहिए। ——————- 10- क्रोध से मूढ़ता उत्पन्न होती है, मूढ़ता से स्मृति भ्रांत हो जाती है, स्मृति भ्रांत हो जाने से बुद्धि का नाश हो जाता है और बुद्धि नष्ट होने पर प्राणी स्वयं नष्ट हो जाता है। ——————- 11- क्रोध यमराज है। ——————- 12- क्रोध एक प्रकार का क्षणिक पागलपन है। ——————- 13-क्रोध में की गयी बातें अक्सर अंत में उलटी निकलती हैं। ——————- 14- जो मनुष्य क्रोधी पर क्रोध नहीं करता और क्षमा करता है वह अपनी और क्रोध करने वाले की महासंकट से रक्षा करता है। ——————- 15- सुबह से शाम तक काम करके आदमी उतना नहीं थकता जितना क्रोध या चिन्ता से पल भर में थक जाता है। ——————- 16- क्रोध में हो तो बोलने से पहले दस तक गिनो, अगर ज़्यादा क्रोध में तो सौ तक। ••••••••••••••••••••­­ ऐसे ही अच्छे अच्छे पोस्ट पढ़ने के लिये प्लीज यह पेज लाइक करें..'''' https://www.facebook.com/pages/Ram-Diljale/566426086804888?fref=टस ज़िंदगी में बार बार सहारा नही मिलता, बार बार कोई प्यार से प्यारा नही मिलता, है जो पास उसे संभाल के रखना, खो कर वो फिर कभी दुबारा नही मिलता…...... ---------------------------------------------------------------------- Pyar Ghajal Hai GunGunane Ke Liye Pyar Nagma Hai Sunane Ke Liye Ye Vo Zajba Hai Jo Sabko Nahi Milta Kyoki Haunsla Chahiye Pyar Ko Nibhane Ke Liye......... ================================== Ek jurm hai mohabbat Jo maine kiya hai, Ek galti hai mohabbat Jo mujh se hui hai, Ek dard hai mohabbat Jo mujhe mila hai, Ek ehsaas hai mohabbat Jo maine mehsoos kiya hai, Or ek Dhokha hai mohbbat Jo Mujhe Kisi Ne Diya Hai...... ))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))))((((((((((((((((((((((((( Meri yaad ayegi tumhe, jab mai dur chla jaunga, dur itna ki kabi lout kar nahi aounga........ ab tak tumhare dil me rahata tha, fir tumhari yaado me bas jaunga.... Yad ayegi tumahri baate aur mulakate, magar tumse kabi mil nahi paunga. Tadpogi tum bhi mere bare me soch kar, magar mai fir najar nahi aunga, tumhe jaan se jyada chata hu. Magar me saabit nahi kar paunga....... Log kahte hai pyar amar hota hai, fir to mai khud ko hi amar kar jaunga....... Mere pyar ko shara dena tab, jab akhiri dam par tumhe bulaunga.... meri yad aye to raat ko bahar akar dekhna, mai ek chamkta huwa tara ban jauga..... Aanshu mat bahana mujhe yaad kar ke, warna naraz mai ho jauga, suna hai sath janam milte hai insan ko, wada raha baki 6-janam tumare sath bitauga........ tumare sath bitauga.............................. iiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii राम दिलजले दिल के द्रद्र कोण सुनत ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

Comment on this post

prawanarampujan 11/12/2014 23:13

sarita sarita ?yy?vccvvchvbvcxt\\tdsoooiijgtbnonojhhohgyftdrddddxxrS\xtccvbiguguguffgbubbuff**ewd*dfofjvjvjbuihhg,fs@asewqqre\gfhbbhjvytr\yguvj,bbb

About this blog

ram diljale

Recent posts

प्रेमको फुल फुल फुल्न नपाई कोपिलामै ओइलाय्छु म आझ सपनी मा पनि तिमि नै हौ भनि बोलाय्छु म आझ के बुज थिउ तिमि ले म ढुखी को माया लाई चाहेर पनि हटाउन सकिन मै ले मेरो छायालाई पानि छ सुके को बगरमा म पनि खोज्न पुगेछु किउँ मा अरु पनि थिय म निस्टुरी लै नै रोज्न पुगेछु ,,,,,,राम दिलजले ///////////////////////////////////////////////////// ये दिल रोता है तेरि मोहब्बद को याद कर्के. ये आंखे बर्सती है कभि तेरी बेवफाई पे. ये सोच्ता हुं मै कि किस तरह भुलुं तुझे. ये जान्ता हुं उम्र भर न भुलुं तुझे. फैसला नहिकर पाता नजाने क्यु में खुदको सजा देता हुं. निकलता हु हरबार तुझ्को दिल्से. और फिर भि तेरी यादो में खोया रहता हुं...।।/////////////////////// ////////////////////////////////////////////\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\ Just Say I Love You|English Poetry When I am glad, you are in my smile, When I am sad, you are in my tears, when I am walking, you are in my step, When I am sleeping, you are in my dreams, I think these are special feelings, If I were an artist, I would paint my feelings, If I were a poetess, I would quote my feelings, But I am an ordinary girl, So I just say, I Love You. राम दिलजले & राम बती ///////////////////////////////////////////////

November 21 2014