Overblog Follow this blog
Edit post Administration Create my blog
10 Nov

Published from Overblog

Published by Ram Diljale

                   ( प्रेम कहानी )  ,,, रंजित दिलवाले को प्रेम विवाह सफल,,,, यो  बुधबार कार्यक्रम “प्रेमक एहसास मा  रंजित दिलवाले को प्रेम कहानी ”आउदौ छः  राति ९ बजेर १५ मिनेटमा, मात्र रेडियो टुडे ९१ मेगाहर्जको तरंगमा “काशिन्द्र शर्मा” को साथमा , सुन्न नभुल्नुहोला है । Mat kr talash manzilo ki, khuda khud hi manzil dikha deta ha... yun to marta nhi koi kisi ke bina, waqt sabko jeena sikha deta ha.......// उसके चेहरे पर इस क़दर नूर था; कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था; बेवफा भी नहीं कह सकते उसको ज़ालिम; प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।...... इश्क का बाज़ार है बेहिचक खरीदिये। कहीं गम है कहीं ख़ुशी कुछ तो समेटिये।। यहाँ है हर वक़्त मिजाज़-ए-दीवानगी। दिल से दिल मिलाईये सौदा न कीजिये।। होठों को मनाही नहीं, आँखों से भी पीजिए। इश्क का जाम है जरा सब्र तो कीजिये।। ये महफ़िल यूँ ही चलेगी दौरे-ए-वक़्त तक। अपने इश्क को सरेआम कुबूल तो कीजिये।।.......राम दिलजले ...एंड रंजित दिलवाले ..

( प्रेम कहानी ) ,,, रंजित दिलवाले को प्रेम विवाह सफल,,,, यो बुधबार कार्यक्रम “प्रेमक एहसास मा रंजित दिलवाले को प्रेम कहानी ”आउदौ छः राति ९ बजेर १५ मिनेटमा, मात्र रेडियो टुडे ९१ मेगाहर्जको तरंगमा “काशिन्द्र शर्मा” को साथमा , सुन्न नभुल्नुहोला है । Mat kr talash manzilo ki, khuda khud hi manzil dikha deta ha... yun to marta nhi koi kisi ke bina, waqt sabko jeena sikha deta ha.......// उसके चेहरे पर इस क़दर नूर था; कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था; बेवफा भी नहीं कह सकते उसको ज़ालिम; प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।...... इश्क का बाज़ार है बेहिचक खरीदिये। कहीं गम है कहीं ख़ुशी कुछ तो समेटिये।। यहाँ है हर वक़्त मिजाज़-ए-दीवानगी। दिल से दिल मिलाईये सौदा न कीजिये।। होठों को मनाही नहीं, आँखों से भी पीजिए। इश्क का जाम है जरा सब्र तो कीजिये।। ये महफ़िल यूँ ही चलेगी दौरे-ए-वक़्त तक। अपने इश्क को सरेआम कुबूल तो कीजिये।।.......राम दिलजले ...एंड रंजित दिलवाले ..

Comment on this post

About this blog

ram diljale

Recent posts

प्रेमको फुल फुल फुल्न नपाई कोपिलामै ओइलाय्छु म आझ सपनी मा पनि तिमि नै हौ भनि बोलाय्छु म आझ के बुज थिउ तिमि ले म ढुखी को माया लाई चाहेर पनि हटाउन सकिन मै ले मेरो छायालाई पानि छ सुके को बगरमा म पनि खोज्न पुगेछु किउँ मा अरु पनि थिय म निस्टुरी लै नै रोज्न पुगेछु ,,,,,,राम दिलजले ///////////////////////////////////////////////////// ये दिल रोता है तेरि मोहब्बद को याद कर्के. ये आंखे बर्सती है कभि तेरी बेवफाई पे. ये सोच्ता हुं मै कि किस तरह भुलुं तुझे. ये जान्ता हुं उम्र भर न भुलुं तुझे. फैसला नहिकर पाता नजाने क्यु में खुदको सजा देता हुं. निकलता हु हरबार तुझ्को दिल्से. और फिर भि तेरी यादो में खोया रहता हुं...।।/////////////////////// ////////////////////////////////////////////\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\\ Just Say I Love You|English Poetry When I am glad, you are in my smile, When I am sad, you are in my tears, when I am walking, you are in my step, When I am sleeping, you are in my dreams, I think these are special feelings, If I were an artist, I would paint my feelings, If I were a poetess, I would quote my feelings, But I am an ordinary girl, So I just say, I Love You. राम दिलजले & राम बती ///////////////////////////////////////////////

November 21 2014